Skip to main content

About

Atul Kumar


Atul Kumar was born on; 29 August 1995. He is an Indian Writer/Author and social reformer. He also an Healthcare Professional. He first came into the light as a writer in the year 2017. He introduced himself as an author of "Digitalization...For the prosperous nation". This Book based on the theme of Digital India. He wrote this book to convey his opinion about Digitalization (Digital India) and how it can contribute in the development of the nation.
In 2018, He wrote an poetry collection with his college Professor which is famous as Ta'aruf, on various online book stores.

Atul Kumar (Writer)

Born29 August 1995, Gwalior MP, India
OccupationWriter
NationalityIndian
EducationGovernment Higher Secondary School No. 2 Morar, ITM University Gwalior 
GenreFiction, Non-Fiction, Poetry
Notable works
Website
www.atulkumarauthor.com

Early Life & Education

Atul Kumar was born on August 1995 in Gwalior, Madhya Pradesh which is also known as the middle state or Heart of India. He completed his school years at Government Higher Secondary School, Gwalior and Recently he completed his Graduation from ITM University Gwalior, Madhya Pradesh, India. He believes that-

"Opportunities like an OTP's 0f your life. If you didn't fix it on a correct place in a correct time.............It will expired."

Books

1. Digitalization..For the prosperous nation; 
This book is based on the theme of “Digital India” that was launched by Government of India on the date of 1 July 2015 in the presence of Prime Minister of India, Mr. Narendra Modi.
Digital India is a campaign launched by the Government of India to ensure that Government services are made available to citizens electronically by improving online infrastructure, increasing Internet connectivity or by making the country digitally empowered in the field of technology.Author wrote this book to convey his opinion about Digitalization (Digital India) and how to contribute in the development of nation. and spread awareness about Digital India.

2. Ta'aruf;
Ta'aruf is an beautiful poetry collection, it also contain a short story about love. This Book is written by Atul Kumar and Author Amol and this is India’s first poetry collection, in which a Student & a Professor penned different shades of emotions together about love and life journey.

Poetries

1. Wo pagli si diwani si... 
2. Abhi to mili hai bss nazar se nazar...



     








Popular posts from this blog

Wo pagli si diwani si...

वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है...
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है, 
आहट उसकी, जैसे दिल में हलचल सी कर जाती है, 
झुकी नजर उसकी, जैसे मुझको पागल कर जाती है, 
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है।

आइना है उसकी नज़रें, जो सबकुछ बतलाती है, 
वो है पागल, जो दिल को झुटा बतलाती है, 
लगती है प्यारी, जब खुद ही वो शर्माती है, 
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है।

कहता है जमाना कि, वो तो पागल है, 
वे-वजह, जब-जब वो मुस्कुराती है, 
जमाने को क्या पता, कि वो मुझसे क्यों शर्माती है, 
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है।

जब आँखें मेरी मदहोश चेहरे से उसके, मिलकर आती हैं, 
काश वो समझ पाती कि, कितना मुझको वो तड़पाती हैं, 
खो गया गया हूँ मुझसे मै, न नींद मुझको अब आती है, 
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है।....


                                                                 - अतुल कुमार                                             


Taaruf (तआरुफ़)

Ta'aruf
Ta'aruf (तआरुफ़) is a beautiful poetry collection, it also contain a short story about love. This Book is written by Atul Kumar (Author) and Author Amol and this is India’s first poetry collection, in which a Student & a Professor penned different shades of emotions together about love and life journey.
Ta'aruf (Book) AuthorAtul Kumar, Author AmolThemePoetryLanguageHindiPublisherBlue Rose PublisherGenrePoetry

Mein-Wo aur Metro

मैं-वो और मेट्रो...

मैं-वो और मेट्रो...
नबंवर महीने की जयपुर की वो गुनगुनाती और गुलाबी सी सुबह थी। और सुबह के लगभग 8 बज चुके थे। और अलार्म बार बार चीखकर अपना वक़्त बता रहा था। एक लड़का तकरीवन 24 -25 साल का, चेहरे पर एक अलग सी कशिश और ख़ामोशी लिए और वो लड़का जल्दी जल्दी अपने कॉलेज जाने के लिए तैयार होता है। और घर के नजदीक मेट्रो स्टेशन से, सुबह के 8:40 की मेट्रो पकड़ता है। काफी भीड़ और रोजमर्रा की तरह मेट्रो में, ऑफिस और कॉलेज जाने वालों की भीड़ में उसे भी जगह मिल जाती है। लड़के के बैग में हमेशा एक स्पाइरल डायरी हुआ करती थी। और इसी प्रकार एक छोटा सा सफर शुरू हो जाता है।, ...रोजाना की तरह रागिनी भी उसी रास्ते से मेट्रो पकड़ती है। जिसके चंचलपन, कॉलेज गोइंग गर्ल कि बजह से कॉलेज और घर में लोगों से घिरी रहती थी। उसकी आँखों में एक अजीब समुन्दर सी गहराई, शायद उसके शब्द बोल ही नहीं पाते होंगे। आँखें ही दिल की जुवां होंगी। ...हमेशा की तरह मेट्रो के अंदर जाने के बाद सीट के लिए जदो-जहद। और लड़के का सामना इत्तेफाकन रोज रागिनी से हुआ करता था। शायद ऊपर वाले को यही मजूर था। वो लड़का रागिनी की आँखों में देखता, और अप…